Work from home, life in IT industry and me


Hello Friends,

Happy Sunday and welcome in my garden of words !

Work from home kills the craze of Friday otherwise Friday was happiest day of the week. There was a time when offices get empty early in Friday evening, but everyone used to reach home late in night. And I don’t want to tell where these honest and hardworking employees during this time were. If you see beer bars of the city on Friday, cards of all companies were hanged together there in evening and all inside-outside stories-gossips of corporate were discussed commonly. The main excuse given to family members for reaching home late was we were working late in office due to important project work. And family members were like its okay if you are working late but why are you eating chewing gum like teenager in midnight. Excuse me if someone use paan-masala. Now who can explain poor family members what smell they are trying to hide behind chewing gum and paan-masala.

Its not the thing that work from home kills the Friday only; it also tells some inside stories of project to family members as well. Now they also know scrum call, stand up call, team meetings and production deployments. They also know the names of all our colleagues. Now a days Indians are everywhere, even you call on-shore or off-shore, there are many Indian accents and names, and that’s why it’s easy to remember names by family members. One day I have finished my evening calls with client and my mother came and put my hand on her head and asked – tell me you are working in multinational company or it’s a local company in Bangalore. I asked why and she said because all your meeting happened with Bala, Jaspreet, Sangeeta, Virendra, Imran and Rahul (not any foreign name). I make her understand that now Indians are everywhere but seriously work from home put my respect of working in multi-national company at stake. Anyway, but its great thing for India and Indians that we are everywhere around the world. Cheers for India.

Its not only India that I love and respect, I respect USA a lot. It’s not just because we are working for their companies, off course this is the primary reason for loving USA but there is one more reason. In India, when we meet with other people, we asked them from which state they belong, what language they speak. In USA, when people meet, they ask where you are originated from, what part of earth you belong. Someone says China and it’s not some miles but some oceans away from USA. They have mini-India in them, they have mini-China in them, mini-Africa, mini-Europe – Almost every part of world we can see there. And the great thing is that they all are leaving happily and peacefully there. If some day alien plan to live in earth, I am sure they would select USA – This is place where we can live peacefully. From the bottom of my heart, I love and respect the diversity and inclusiveness culture of this country. Such a global country!

Software Industry is full of white-collar professionals who made the life easy for the people whose collar get dirty every day due to their work. Working in Software companies make you very polite, humble, and patient. Sorry and Thankyou are now our new Insha’Allah or hey God like words. In India, we must bargain everywhere, otherwise you will always be in loss. Once I was bargaining with vegetable vendor and my father said you are not here to talk about your daughter’s marriage. If you bargain like this, no-one will less single penny for you. 

You know what, these humbleness or kindnesses come from the way we are working in software Industry. Let me talk about software developer who write code to build a software. They are like cook who made food and get feedback for his own creation. He made dishes, people taste and say it is less salty. Humble developer adds some salt to it and now people pointed him its less spicy, he again goes to the kitchen with contact pressure of fixing the dish on time and add some spices to it. People again taste and say now it taste good but its not healthy. Poor developer called to his friend google, stake overflow and add some nutrition to it. He made a tasty and healthy dish now but now feedback is that we are not on-time. This is what a developer’s life.

Let me tell you one more example to feel the pain of developer. Suppose a developer is creating flush used in toilets (I know this is example from manufacturing industry but I find it very suitable). He developed flush with full of his skills and sweat. Now flush came to Quality team for testing. They reported defect that Flush is not working for them. Developer checked everything and said it is working to me. Then Quality person said its working when I press it gently with using three fingers, but It is not working when I press it with my whole fist. Poor Developer is like I did not create it for punching; are you going bathroom to practice boxing. He fixed it but then again new defect came to him that it is not working still. Developer checked with QA and he said its not working when I press it with legs. Poor developer is like are you practicing football there; bathroom singer is okay but where the hell this bathroom footballer breed came. But that’s not end; Now someone is doing user acceptance testing of it and reported that press icon is printed on wrong location; it should be at the center. Developer is again like everyone know we need to press it, who cares about icon and moreover who look at the icon while pressing it. But his life does not get easy here; one more defect raised that it is making a lot noise when water flows. Now humble developer raised his voice and said I can do everything, but I can’t play guitar melody in water flow. Jokes apart, this ups and downs are constant part of developer’s life cycle. One day he is happy that he fixes everything, next day he again gets something to fix. Believe me, this ups and downs like sine way is the real lifeline of every project; until it is running any company, or any project can breathe and survive.

It doesn’t mean that tester’s life is easy. They have their own pain. You must play a game in newspaper or magazine where there is a monkey at one corner and banana at another corner and we have to find the path by which monkey can reach to banana. All path to reach at banana were blocked at some place except one and we have to highlight that particular path. QA is always like that monkey who run through different paths in search of defects. Running one path to other and sometime same path he took multiple times just in search of defect. At the end of day if he finds banana(defect), he goes to developer and showed that path with pride. Developer says just one defect and rest everything is good. QA is like I almost died in travel one path to another entire day, and you are saying just one defect. (ek defect ki keemat tum kya janoge developer babu). Testers are always like monkeys who jump from one branch to another just to make sure that tree would always be strong and fruitful. Without QA, a project would be like a vehicle that can move from its place, but it can’t run on road.

Let me roast some support people as well. Developers get time in hours to accomplish his job, testers get in minutes and support guy get in seconds. The first thing they do when any mail came to them for any work is sending a mail that work in progress. After sending WIP (work in progress) mail, they can have coffee or even go for walk. Even while sleeping if mobile message tone rang, they send work in progress email, then happily sleep for one hour and then start work on it. Their situation is like that doctor whose duty is in ICU, every patient is critical and urgent for him. Thank God, software engineering practices make them humble; otherwise, if any team would pressure them then they would like I will let you know when you request for an urgent deployment just before production release. Believe me, support team is like spine of every project, they build infrastructure-environment and keep the project standing always.

I am sorry I don’t have medals, but its just a small step from my side to recognize the colleagues around me. At the end tip of the day – fun and smile are like try and catch block, if we try fun in life I am sure we would catch smile and happiness. So please surround your life with try-catch block of fun and smile always.

Thank you very much for bearing me in this article. Happy reading !

जय माता दी


वेद-पुराण में तीन देवताओ का वर्णन विशेष रूप से मिलता हैं, जो इस पुरे ब्रह्माणं की कार्य प्रणाली को संचालित करते हैं, ये देवता हैं ब्रह्मा, विष्णु और महेश। ब्रह्मा इस सम्पूर्ण ब्रह्माणं के रचियता हैं, विष्णु इस सृष्टि के संचालक या पालनहार हैं और महेश सृष्टि के रक्षक और संहारक है। यहाँ यह बात ध्यान रखना चाहिए कि संसार में जो भी उत्पन्न हुआ हैं वो कभी न कभी नष्ट भी होगा, इसलिए संहारक की भूमिका को नकारात्मक रूप में नहीं देखना चाहिए।

देखा जाये तो सृष्टि की रचना से लेकर जितने भी कार्य हैं, वो इन तीन देवताओ में ही विभाजित हैं, पर इन कार्यो को करने के लिए जिस विशिष्ट गुण की आवश्यकता हैं उनके प्रतीक ये देवता नहीं हैं। सृष्टि की रचना के लिए बुद्धि और ज्ञान की आवश्यकता होती हैं और इसलिए स्वयं ज्ञान और कौशल की देवी सरस्वती ब्रह्माजी के साथ विराजमान हैं। किसी भी व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए संसाधन की आवश्यकता होती हैं, और इसीलिए सृष्टि के संचालक श्री हरी विष्णु जी साथ स्वयं धन-धान्य और सभी प्रकार के संसाधन की देवी लक्ष्मीजी विराजमान हैं। रक्षा हो या संहार, ये कार्य बिना शक्ति, साहस और सामर्थ्य के नहीं किये जा सकते हैं, शायद इसीलिए स्वयं आदिशक्ति माँ पार्वती भोलेनाथ के साथ विराजमान हैं।

तीनो लोको के स्वामी सर्वशक्तिमान भोलेनाथ को जीवन में आदिशक्ति की आवश्यकता क्यों हैं, चतुर-स्मार्ट श्री हरी विष्णु को माता लक्ष्मी का साथ क्यों चाहिए ? मैं नहीं जानता ऐसा क्यों हैं, जिस सर्वशक्तिमान ईश्वर की छवि वेद-पुराण ब्रम्हा-विष्णु-महेश के रूप में गढ़ते हैं, उनके साथ इन गुणों के लिए देवियो को क्यों विराजा गया। क्या ये त्रिदेव इन गुणों या कौशल से परिपूर्ण नहीं हैं? शायद सनातन धर्म ये बताना चाहता था कि पुरूष कितना भी शक्तिशाली क्यों ना हो, वो कोई भी कार्य बिना महिला के नहीं कर सकता हैं। संसार के सभी प्राणियों को इन गुणों को प्राप्त करने के लिए स्त्री की आवश्यकता होगी। विश्व में शायद ही ऐसा कोई धर्म होगा जिसने स्त्री की महत्ता इतने रचनात्मक रूप में सिखाई होगी, शायद ही ऐसा धर्म होगा जिसने ईश्वर को अकेला नहीं वरन पुरुष और महिला के संयोजन में दिखाया।

स्त्रीयो को उपभोग या शारीरिक सुंदरता के मापदंड पर तौलने वाले समाज को शायद ये जानकार आश्चर्य होगा कि वेद-पुराण में देवियो का वर्णन अपने विशिष्ट गुणों से ही होता हैं। देवियो के रंग-रूप पर टिप्पणी भी उनके कर्म और गुणों के आधार पर ही की गई हैं। देवी लक्ष्मी धन-धान्य और सुख-सम्पदा को दर्शाती हैं, स्वाभाविक सी बात हैं जो सुख-संपन्न और संसाधन से परिपूर्ण होगा वो सुन्दर ही होगा, इसीलिए लक्ष्मीजी को हमेशा गौरांगी और सुन्दर बताया गया हैं। सरस्वती ज्ञान और बुद्धि की देवी हैं और जो ज्ञान-बुद्धि से परिपूर्ण होगा वो ओजस्वी होगा, इसीलिए सरस्वतीजी का वर्णन ओजस्वी, शांत-चित्त और सौम्य रूप में किया गया हैं। माँ काली शक्ति का प्रतीक हैं, इस संसार की राक्षसों से रक्षा करती हैं। जो साहसी होगा, युद्ध भूमि में रहेगा और निरंतर शारीरिक कार्य करेगा, उसका रंग सावला ही होगा, इसीलिए माँ काली का रंग-रूप काला या नीला बताया गया हैं और उनका स्वरुप भयानक बताया गया हैं।

नवरात्र का ये उत्सव की कल्पना इसलिए की गई कि ये समाज स्त्री की महत्ता समझे। शारीरिक रंगरूप, काम-लोभ के स्थान पर शक्ति-ज्ञान और संसाधन की आराधना करे। नवरात्र का ये पर्व जीवन का सन्देश हैं कि जब तक प्राणियों में शक्ति-ज्ञान और संसाधन के प्रति आस्था का भाव हैं, तब तक ही जीवन संभव हैं। और इन्हे प्राप्त करने के लिए भक्ति-भाव से माँ के चरणों में नतमस्तक होकर आराधना करनी ही होगी।

जय माता दी

शिव – गृहस्थ, पति और प्रेमी


नोट – ये लेख समर्पित हैं उन सभी स्त्रियों को जो अपने जीवनसाथी में किसी फ़िल्मी हीरो जैसी खूबी तलाशती हैं | ये लेख उन सज्जनो को भी समर्पित हैं को स्त्री को अपना दास समझते है या स्वयं उनके दास बन जाते हैं |


प्रेमी हो तो श्री कृष्ण जैसा !
पति हो तो भोलेनाथ जैसा !

प्रेमी हो तो श्री कृष्ण जैसा जो प्रेमिका को सदैव के लिए ह्रदय में स्थान दे !
पति हो तो भोलेनाथ जैसा जो पत्नी को ह्रदय ही नहीं अपितु तन-मन और जीवन में इस तरह सम्मिलित कर ले कि स्वयं अर्द्ध नारीश्वर बन जाये !

इसका यह अर्थ कदापि नहीं हैं कि प्रेम किसी और से किया जाये और जीवन साथी किसी और को बनाया जाये | बहुधा प्रेम किया नहीं जाता परन्तु जीवनसाथी का निर्णय हमेशा बहुत सोच-समझकर किया जाता हैं | पुराणों कथाओ में शिव को ऐसे ईश्वर के रूप में दिखाया जाता हैं जो सन्यासी के समान जीवन व्यतीत करते हैं, समाधी में रहते हैं, समस्त ऊर्जा का स्त्रोत हैं और संसार को विनाश से बचाते हैं | परन्तु शिव एक आदर्श पति का उत्तम उदाहरण भी हैं | उन्होने पार्वती को पत्नी के रूप में स्वीकार किया तो उसके बाद उनका ध्यान किसी और स्त्री पर नहीं गया | एक आदर्श गृहस्थ की तरह वो अपने कर्म जैसे ध्यान-समाधी में ही लीन रहते हैं और बचा हुआ पूरा समय अपने परिवार और घर (कैलाश पर्वत) की देखभाल करते हैं | शिव कभी अपना समय इधर-उधर भ्रमण करने या अन्य व्यर्थ प्रपंच-मौज-मस्ती करने में व्यतीत नहीं करते | यही गृहस्थ की सर्वकालिक आदर्श परिभाषा हैं कि वो अपना पूरा समय अपने कर्म और परिवार को ही दे |

शिव का रहन-सहन सामान्य हैं, वो सामान्य वस्त्र पहनते हैं, साधारण सा जीवन व्यतीत करते हैं परन्तु अपने बच्चो को ऐसे आदर्श देते हैं कि उनके पुत्र गणेश माता-पिता को सारे संसार से बड़ा समझते हैं | एक गृहस्थ को भी सादे जीवन को अंगीकार करना चाहिए और अपनी पूरी पूंजी अपने परिवार के उच्च पालन-पौषण पर लगानी चाहिए | यहाँ पूंजी केवल रुपये पैसो की ही नहीं वरन आदर्श-संस्कार की भी है | यह एक विचित्र संयोग हैं कि शिव संन्यासी के वेश में विशुद्ध गृहस्थ हैं और कृष्ण एक गृहस्थ के वेश में साधु | एक आदर्श गृहस्थ वही है जिसका रहन-सहन साधारण हो पर कर्म और विचार उच्च |

शिव गृहस्थ के रूप में खरा सोना हैं तो पति के रूप में बहुमूल्य हीरा | उन्होंने पार्वती को पत्नी के रूप में स्वीकार किया तो उसे अपने साथ बराबरी से बैठाया, अर्द्ध रूप नारी का जरूर लिया पर अर्द्ध रूप अपना भी अक्षुण्ण बनाये रखा | अर्द्धांगिनी का अर्थ तो शिव ने ही समझाया | यही विडंबना हैं आज पुरुष समाज के साथ कि वो या तो स्त्री को अपने चरणों में स्थान देते है या स्वयं स्त्री के चरणों में बैठकर दास बन जाते हैं | स्त्री ना भोग की वस्तु हैं और ना ही मंदिर की मूर्ति , उसे मनुष्य समझने की जरुरत हैं और बराबरी का स्थान देने की जरुरत हैं – ना इससे ज्यादा ना इससे कम |

शिव का प्रेमी स्वरुप शायद की किसी अवसर पर प्रकट हुआ हो | शिव ने अपना प्रेम सदैव एक गृहस्थ के समान अपने घर की दीवारों के अंदर ही दिखाया | एक अवसर पर ऐसा अवश्य हैं जब शिव प्रेम की उस पराकाष्टा को पार कर गए जहा तक शायद ही कोई प्रेमी पहुँचा होगा | माता सती के लिए शिव का रूदन जितना डराता है उतना ही व्यथित भी कर देता हैं | अपनी भार्या की मृत काया को लेकर संसार में भटकने वाले शिव के दुःख की कोई थाह नहीं | शिव का रूदन दर्शाता हैं कि वो किस कदर अपनी पत्नी को प्रेम करते हैं | संसार का सर्वशक्तिमान ईश्वर भी प्रेम में इतना विवश हैं | प्रेम में दुनिया से पत्थर खाने वाले मजनू इस कथा के सामने बौना हैं , जहर खाने वाले रोमियो तुच्छ हैं |

और अंत में चलते-चलते :: स्त्री का प्रेम इस संसार की सबसे अमूल्य वस्तु हैं, इसलिए हैं स्त्री समाज अपना प्रेम कभी किसी इडियट पर वेस्ट मत करना | यह अकारण नहीं कि सनातन धर्म में हरितालिका का व्रत बनाया तो शिव को पति के प्रतीतात्मक रूप में रखा गया, कृष्ण या राम को भी नहीं | एक पुरुष को कभी उसके बाहरी आडम्बर – वेशभूषा से मत परखना | एक पुरुष की पहचान उसके कर्म और विचारो से होती हैं | अपना प्रेम उसी को समर्पित करना जो तुम्हे बराबरी का स्थान दे, जिसका प्रेम तुम्हारे लिए कभी कम ना हो, जिसका हर कर्म समाज या परिवार के कल्याण के लिए हो, जो कर्म के पश्चात अपना पूरा समय तुम्हे और परिवार को दे, जो न तुम्हे अपना दास समझे और ना ही तुम्हे अपने सर पर बैठाये बल्कि दोस्त मानकर अपने साथ बैठाये, तुम्हारे मन की बात सुने और तुम्हारे विरह में जिसका रूदन समस्त संसार को व्यथित कर दे – वही तुम्हारे प्रेम का अधिकारी हैं |

केके


कृष्णकुमार कुन्नथ उर्फ़ केके को सबसे पहले हमने सुना एल्बम “पल” में | पल-चल जैसे नर्सरी राइम वाले शब्दों पर बना गीत “ये हैं प्यार के पल” आज भी स्कूल कॉलेज की यादो का एंथम बना हुआ हैं | ठहराव केके की गायकी का मूल तत्व हैं, इस गीत में भी वो पल या चल को बड़े इत्मीनान से बोलकर थोड़ा रुकते हैं और यही वो पल हैं जहा वो गीत का सारा भाव समझा देते हैं और आगे का गीत हम बस स्कूल कॉलेज की यादो के गलियारे में बैठकर मंत्रमुग्ध होकर सुनते ही रह जाते हैं | इसी तरह का एक गीत था – “यारो दोस्ती बड़ी ही हसीन हैं” | दोस्ती के भाव को दीपक की बाती जैसी लय में जितनी खूबसूरती और कोमलता से केके ने गाया हैं वो शायद की किसी और गीत में सुनने को मिले |


केके को किसी फिल्म के गीत में शायद पहली बार हमने सुना फिल्म हम दिल दे चुके सनम के गीत “तड़प-तड़प के इस दिल से आह निकलती रही” में | अपने पहले ही प्रयास में केके ने वो मुकाम हासिल किया जिससे ऊपर जाना उनके लिए भी आज तक मुमकिन नहीं हुआ | इससे पहले और इसके बाद में भी जितने दर्द भरे गीत बने, सभी में गायक सुर-ताल और लय के साथ बड़े-बड़े आलाप लेते हुए गाता था, जबकि वास्तविकता में ये मुमकिन ही नहीं हैं | जब कोई दुःख में हो तो सुरो पर संतुलन कैसे बना सकता हैं | केके ने इस गीत को चीखते-चिल्लाते हुए लहजे में गला फाड़कर गाया | जैसे कोई अपनी किस्मत पर रो रहा हो, ईश्वर से शिकायत कर रहा हो – “जिस्म मुझे देकर मिट्टी का, शीशे सा दिल क्यों बनाया” | पहली बार ये गीत केवल बेसुरे के चीखने-चिल्लाने से ज्यादा कुछ नहीं लगेगा पर जब ये गीत इत्मीनान से पूरा सुनेगे तो देखेंगे गीत में केके ने वाकई में कमाल ही कर दिया था (खासकर “लूट गए” इस शब्द में तो केके ने ऐसा सुर दिया हैं कि कोई सड़क पर लौटते हुए कराह रहा हैं – “लूट गए” )| यकीन ही नहीं होता हैं “दोस्ती बड़ी ही हसीं हैं” जैसा कोमल गीत और “तड़प-तड़प” जैसा कठोर गीत एक ही गायक ने गाये हैं | आप इस गीत को अगर फिल्म में देखेंगे तो पाएंगे कि केके की आवाज़ में जितना दर्द था उतना सलमान खान भी अपने अभिनय से पैदा नहीं कर पाए हैं | अपने पहले ही प्रयास में केके समकालीन गायको से कही आगे निकल गए |


एक और गीत था – “मैंने दिल से कहा ढूंढ लाना ख़ुशी” | नीरस और एकाकी जीवन से उपजे रंज की भावनाओ पर आधारित ये गीत केके ने बड़े इत्मीनान और ठहराव से गाया हैं | दर्द का ये स्वरुप केवल केके ही दिखा सकते थे कि जीवन में कोई बड़ा दुःख नहीं पर फिर भी कोई दुखी हैं और इस दुःख को बड़े फिलॉसॉफिकल तरीके से बता रहा हैं – “जश्न ये रास ना आया, मज़ा तो बस गम में आया हैं” | इस गीत को केके ने बहुत सहज अंदाज में गाया हैं, जैसे कोई हमारे सामने बैठा हैं और अपना हाल बता रहा हैं, और हम उसकी नीरस जीवन की बातो को बड़े चाव से सुन रहे हैं | केके की सहजता, आवाज़ का टेक्सचर, गीत के बोल और इरफ़ान का अभिनय इस गीत के मुख्य आकर्षण हैं | “आवारापन-बंजारापन” भी इसी अंदाज का गीत हैं, जो सुनने पर दिल में हुक सी उठाता हैं, इस गीत में आवारापन-बंजारापन शब्द ही केके ने इतने जादुई और रहस्मयी अंदाज में बोले हैं कि आगे का गीत ना भी सुने तो ये शब्द आपके ह्रदय में गूंजते रहेंगे | फिल्म “रहना हैं तेरे दिल में ” केके ने गाया हैं – “सच कह रहा हैं दीवाना” | प्रेम में नाकाम प्रेमी के भावो से भरा ये गीत जितना दर्द में डूबा हैं, उतना ही मधुर और कर्णप्रिय भी |


केके ने माधुर्य भरे गीत भी बहुत गाये हैं | “क्यों आजकल नींद कम, ख्वाब ज्यादा हैं” गीत में वो अपनी जादुई आवाज़ से प्रेम के उत्साह को दिखाते हैं तो “सज़दे किये हैं मैंने” गीत में प्रेम की खुशी और ईश्वर के प्रति गरेटिटूयड की भावना दिखाते हैं | ” दिल इबादत” और “ज़रा सा दिल में दे जगह तू” जैसे गीत प्रेम की मिठास को हमारे कानो में ही नहीं बल्कि ह्रदय-आत्मा में घोल देते हैं | ये भी केके की आवाज़ का जादू हैं कि खुदा, दिल जैसे दर्जनों बार उपयोग किये गए घिसे-पीटे शब्दों से भरा गीत “खुदा जाने” सुपरहिट हो जाता हैं | फिल्म “बचना ऐ हसीनो” के इस गीत में केके “खुदा जाने” में ऐसा स्वर लेते हैं कि आवाज़ आसमान के पार खुदा तक पहुचानी हो और उसके तुरंत ही बाद “कि बन गया हूँ मैं तेरा” इस अंदाज में गाते हैं कि आवाज़ सिर्फ दो प्रेमियों के बीच सिमटी रहे | शब्दों में भावनाओ का ऐसा उतार-चढ़ाव देकर सुनने वाले के ह्रदय में चाशनी घोलना ही केके के गायन का मुख्य जादू हैं, आज भी हम “पल”, “आवारापन-बंजारापन”, “खुदा-जाने” जैसे शब्दों को सुनते ही इन गीतों में जैसे खो जाते हैं |


दो गीत और हैं जिनके बिना हमारी चर्चा अधूरी रहेगी | बजरंगी भाईजान फिल्म में एक गीत हैं – “तू जो मिला तो सब कुछ है हासिल” और इक़बाल फिल्म का गीत “आशाएं” | मुन्नी और बजरंगी के रिश्ते पर आधारित गीत “आशियाना मेरा साथ तेरे हैं ना” जैसी भावपूर्ण पंक्ति से आरम्भ होता हैं और “जैसे तू धड़कन मैं दिल” के अंजाम तक पहुँचता हैं | ये गीत नहीं बल्कि पूरी फिल्म की कहानी हैं, मुन्नी और बजरंगी के मासूम रिश्ते को केके भी उतनी ही कोमलता और संवेदना से नाम देते हैं – “जैसे तू धड़कन मैं दिल” | इक़बाल फिल्म का गीत “आशाये” में केके उम्मीद और हौसलों का ज्वालामुखी पैदा कर देते हैं | जीवन में जब भी आप आप को निराश और हारा हुए पाए, ये गीत जरूर सुने, इस गीत में केके की आवाज़ नसों में उम्मीदों का हीमोग्लोबिन पैदा करने की काबिलियत रखती हैं |


सात सुर होते हैं संगीत में, पर केके आठवे सुर के भी महारथी हैं | किसी भी गीत की आत्मा पर, भाव पर केके की पकड़ वैसी ही हैं जैसी मधुमक्खी की पकड़ शहद पर | और ये शहद जब सुनने वाले के कानो में पड़ता हैं तो अजब सा मिठास भरा जादू घोल देता हैं | तरल आवाज़ के मालिक केके का कंठ किसी भी सांचे में ढल जाता हैं, दर्द में वो तड़प जाता है तो ख़ुशी में चहक जाता हैं | किसी दिन शायद केके कोई भजन गाये तो वो भी उपासना का महाकाव्य बन जायेगा | फिल्म ओम शांति ओम में केके का एक गीत हैं – “आँखों में तेरी अज़ब सी अदाए हैं” | आवाज़ में केके की भी अज़ब सा जादू हैं, दिल को बना दे जो पतंग वो केके के गीत हैं | और हम इन गीतों के संसार में ही आँखे मूंदकर बस खोये रहना चाहते हैं |

— अंकित सोलंकी, उज्जैन (मप्र)

कटी पतंग का क्या करे ?


कटी पतंग का क्या करे ?

हम सभी लोगो को अगर कोई कटी पतंग मिलती हैं तो हम लोग उसे धागा बांधकर उड़ाना शुरू कर देते हैं । पर ऐसी कोई कटी पतंग इन प्रसिद्ध व्यक्तियों को मिलती हैं तो वो क्या करते हैं । आइये जानते हैं :-

महात्मा गाँधी – कटी पतंग पर हक उसके मालिक का हैं । पतंग के मालिक को ढूंढकर उसे उसकी पतंग वापस कर देंगे ।

नरेन्द्र मोदी – उस कटी पतंग को हर राज्य के चुनाव प्रचार में ले जाएंगे और लोगों से भाषण में कहेगे – भाइयो और बहनों , आपके राज्य से मेरा पुराना नाता हैं । जब मैं गुजरात मे चाय बेचता था तब ये पतंग आपके राज्य से कटकर मेरे पास गुजरात मे आ गई थी । मैंने इस पतंग को तब से संभालकर रखा हैं। आज मैं आपको आपकी पतंग वापस देने आया हूँ ।

राहुल गांधी – उस कटी पतंग को सभी कांग्रेसी नेता मिलकर उड़ायेंगे । जैसे ही पतंग थोड़ी उड़ने लगेगी, डोर राहुल गांधी जी के हाथ मे दे दी जाएगी , फिर पतंग का क्या होगा ये मुझे आपको बताने की जरूरत नहीं है ।

मुकेश अम्बानी – वो कटी पतंग फ्री में बेच देगे और उसके साथ मे थोड़ी डोर भी बिलकुल फ्री में दे देंगे । और जब पतंग के खरीददार को पतंग उड़ाने का शौक लग जायेगा और उसे दूसरी पतंग या डोर की जरूरत होगी तो उसे अगली बार पतंग और डोर महंगे भाव मे बेची जाएगी ।

योगी आदित्यनाथ – उस पतंग पर 2000 का नोट बांधकर उड़ायेंगे और पतंग को फिर से कटवा देगे । फिर इस कटी पतंग को लूटने के लिए जब सारे गुंडे बदमाश इकठ्ठे होंगे, सालो को वही ठोक देगे ।

मार्क जुकरबर्ग – पतंग के मालिक के बारे में पता करेगे और उसे फेसबुक पर पतंग की दुकानों, ऑनलाइन पतंग खरीदने की वेबसाइट और पतंग उड़ाना सीखाने वाली ऑनलाइन साइट के विज्ञापन दिखाएंगे ।

विपक्ष पार्टी – पतंग को दिखाकर धरना-प्रदर्शन करेंगे और कहेगे – ये पतंग का कटना सरकार की साजिश हैं, ताकि लोग मजबूर होकर दूसरी पतंग खरीदे और इसका सीधा फायदा पतंग बनाने और बेचने वाले उद्योगपतियो को हो ।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान – कटी पतंग पर कश्मीर लिख देगे और संयुक्त राष्ट्र संघ में पतंग दिखाकर कहेगे – कश्मीर हमारा हैं ।

रणवीर सिंह – कटी पतंग अपने दर्जी को दे देंगे ताकि वो इससे उनकी नई ड्रेस डिज़ायन कर सके ।

अमिताभ बच्चन – वो कटी पतंग की तरफ देखेगे भी नही और पूछने पर कहेगें – मैं आज भी कटी पतंग नही उड़ाता।

गब्बर सिंह – गब्बरसिंह वो पतंग ले जाकर साम्भा को दे देगा । बेचारा अकेला पहाड़ी पर बैठकर बोर होता रहता हैं तो वो पतंग उड़ाकर मनोरंजन कर सकता हैं ।

राजेश खन्ना – बाबू मोशाय, कटी पतंग कोई भी उड़ाए पर कटी पतंग मेरी थी, मेरी है और मेरी ही रहेगी ।

इंतेज़ार, ऐतबार, तुमसे प्यार कितना करू…


साल 2006 में एक फ़िल्म आई थीं – खोसला का घोंसला । भू-माफिया के चंगुल में फसे दिल्ली के एक मध्यम वर्गीय परिवार पर आधारित ये फ़िल्म बहुत दिलचस्प थी । इस फ़िल्म में कैलाश खैर की आवाज़ में चक दे फट्टे जैसा रोचक गीत भी था । इस फ़िल्म को देखने के बाद लगा कि फ़िल्म में एक गीत को अधूरा छोड़ा गया हैं, इस गीत की पंक्तियों को कुछ दृश्यों में उपयोग किया गया हैं, पर पूरा गीत कभी नही सुनाई दिया ।

तो माजरा ये हैं कि नायक विदेश जाने के लिए प्रयासरत हैं पर उसके परिवार पर भू-माफिया द्वारा एक बड़ी समस्या खड़ी कर दी गई हैं । नायक को विदेश तो जाना हैं पर परिवार को इस हालत में नही छोड़ना हैं । नायिका को इस बात का दुख हैं कि नायक विदेश जा रहा हैं और भावनात्मक उथलपुथल के दौर से गुजर रहा नायक, नायिका के साथ रिश्ते के भविष्य को लेकर कोई ठोस जवाब नही दे पा रहा हैं । और अगर नायक विदेश चला गया तो शायद ये इस रिश्ते का अंत ही हो । नायिका के मन की इसी उधेड़बुन पर इस गीत का ताना बाना रचा गया हैं ।

डर ये लगता हैं क्या ये सपना हैं…
अब जो अपना हैं, कल वो कहाँ हैं…
डरता दिल पूछे बार बार…
इंतेज़ार, ऐतबार, तुमसे प्यार कितना करू…

इस गीत की खूबसूरती ये हैं कि ना ये प्रेम गीत हैं ना विरह गीत, ना खुशी का अहसास देता हैं और ना दर्द का । ये तो मानवीय मन के अंतर्द्वंद्व का गीत हैं । नायिका को नायक के प्रेम पर विश्वास तो हैं पर हालिया घटनाक्रम से वो भविष्य के प्रति संशकित हैं । उसके सवाल नायक से नही, खुद से हैं – इंतेज़ार, एतबार, तुमसे प्यार, कितना करू । ये निर्णय लेने वाली घड़ी का गीत हैं वो भी तब जब दिल और दिमाग का युद्ध जारी है । देखा जाए तो ये जो अंतर्द्वंद्व होता हैं ना, यही जीवित होने का अहसास हैं । पूरा जीवन ही जैसे एक क्वेश्चन-पेपर हैं और ये दुनिया एक बडा सा एग्जाम- हाल । हर किसी को ऊपरवाले ने एक निर्धारित समय दिया हैं इन प्रश्नों के उत्तर ढूंढ़ने के लिए । और इन जवाबो को तलाशने के लिए मानव हृदय खुशी और दर्द के बीच झूलते हुए जिस जीवन को जीता हैं उसी का नाम हैं अंतर्द्वंद ।

अंतर्द्वंद के इस गीत को समंदर की लहरों जैसे भावों में बहते हुए गाया हैं सौम्या राव ने, जिनकी आवाज़ चित्रा की याद दिलाती हैं । गीत का संगीत रचा था विवेक ढला ने और भाव प्रणय लिरिक्स लिखे थे जयदीप सैनी ने । गीत के बीच मे थोड़ी कव्वाली भी हैं जो माधुर्य को कम करती हैं । इतने मधुर गीत की ये पंक्ति फ़िल्म में उपयोग हुई हैं जो हूक की तरह दिल मे लगती हैं – “छोटी रातें हैं, कितनी बातें हैं….अब जो आये हो ….थामो हमे एक बार”….बाते अभी और भी है पर हमारे पास भी शब्दो की सीमा हैं, और अगर आप इसी तरह थामे रहे तो अगली बार फिर मिलते हैं किसी और गीत के साथ…

गीत की यू ट्यूब लिंक – https://m.youtube.com/watch?v=5AGibp-xpb0

आपका अपना
अंकित सिंह सोलंकी, उज्जैन (मप्र)

शेर, शाकाहार और प्रकृति


चमगादड़ खाने की कीमत आज हम चूका रहे हैं पर शेर को पिंजरे में बंद करने की कीमत चुकाना अभी बाकी हैं !

————————–

शेर और शाकाहार, ये कभी संभव नहीं हैं । प्रकृति ने शेर को मांसाहारी ही बनाया हैं । शेर को वैसे शारीरिक रूप से भी प्रकृति ने बहुत सक्षम बनाया हैं । नुकीले दांत , हष्ट-पुष्ट शरीर , चपलता, स्फूर्ति , हवा से भी तेज़ चाल और ब्रह्माण्ड को भेदने की क्षमता रखने वाली दहाड़ । शेर प्रकृति द्वारा स्थापित खाद्य श्रंखला में सबसे ऊपरी पायदान पर विराजमान भी हैं । और सबसे ऊपरी पायदान पर होना शेर का सौभाग्य भी हैं, उत्तरदायित्व भी और नियति भी । शेर को अपने द्वारा किये गए हर शिकार और मांस के हर टुकड़े के प्रति पूर्ण दायित्व निभाना होता हैं ।

शेर लिखना और शेर सुनाना आसान हैं , पर शेर बनना बहुत मुश्किल । और शेर जैसे हमेशा बना रहना तो और भी मुश्किल । यहाँ बात केवल शारीरिक क्षमता की नहीं हो रही हैं बल्कि उस निडरता की हो रही हैं जिसके बलबूते पर वो जंगल का राजा कहलाता हैं, और उस उत्तरदायित्व की भी जो उसे जंगल का राजा होने पर या जीवन चक्र के अग्रज होने पर निभाने होते हैं । शेर रोज अपना शिकार ढूंढंता हैं और पेट भरता हैं परन्तु उसके शिकार के बावजूद जंगल में कभी किसी प्राणी के अस्तित्व पर संकट नहीं आता, वरन शेर के शिकार के कारण तो सभी प्राणियों की संख्या  नियंत्रण में रहती हैं, जीवन चक्र सुचारु रूप से विद्यमान रहता हैं । शेर अपने जंगल के जानवरो की दुसरे जंगली जानवरो से रक्षा भी करता हैं । अगर जंगल में कोई और शेर या अन्य कोई और हिंसक जानवर घुस जाए तो शेर उससे युद्ध करता हैं और अपने प्राणियों की रक्षा करता हैं । अपनी शक्ति के अभिमान में शेर कभी जंगल को या जंगल के प्राणियों को कोई हानि नहीं पहुंचाता । शेर कभी ज्यादा सामाजिक नहीं होता , वो बन्दर की तरह पेड़ो पर उछलकूद नहीं करता , हाथी की तरह तालाब में सूंढ़ से पानी उलीचकर जलक्रीड़ा नहीं करता ।और तो और शेर की हिंसक और आक्रामक व्यक्तित्व से जंगल में भय का माहौल ना हो इसलिए शेर शिकार करने के बाद चुपचाप अपनी गुफा में अकेला ही आराम करता हैं । यहाँ तक कि शिकार करना भी शेर का शौक कम और मजबूरी ज्यादा हैं । मजबूरी इसलिए क्युकी उसे अपना पेट भरना होता हैं और जरुरी इसलिए क्युकी अभ्यास के अभाव में वो लड़ने की शक्ति ना खो दे । शेर बनना वाकई जितनी गर्व की बात हैं उतनी ही जिम्मेदारी की भी ।

मुझे बहुत हँसी आती हैं जब मांसाहारी मित्र मांसाहार के पक्ष में ये अजीब सा तर्क देते हैं कि जो शेर होता हैं वही मांस खाता हैं और घास-फूस खाने का काम तो गाय-भैस का हैं । अलबत्ता गाय-भैस का भी अपना महत्त्व हैं पर शेर से तुलना तो हास्यापद ही हैं । अब इन्हे कौन बताये की शेर रोज अपना शिकार खुद करता हैं और वो भी अपनी शारीरिक और बौद्धिक क्षमता से । इस तरह से मृत प्राणी के इर्द-गिर्द बैठकर भक्षण करने का कार्य तो चील , कौए और कुत्ते करते हैं । शेर का मांसाहार जीवन चक्र से सामंजस्य स्थापित करता हैं , और मानव का मांसाहार जीवन चक्र का विनाश । मांसाहार तो ठीक मनुष्य का शाकाहार भी अब तो जीवन चक्र में विघ्न पैदा कर रहा हैं । हम पेड़-पौधों से भोजन प्राप्त करते हैं और उन्हें ही समाप्त करने पर आमदा हैं । पेड़-पौधों पर आश्रित कितने ही पशु-पक्षियों का अस्तित्व अब संकट में हैं । और मांसाहार के लिए तो हमने अलग से जीवन बनाने की फैक्ट्री तैयार कर दी हैं , जहाँ बकरे-मुर्गे-सूअर-भेड़ और पता नहीं क्या-क्या केवल इसलिए पैदा और पोषित किये जाते हैं ताकि वो मानव का पेट भर सके । प्रकृति की नैसर्गिक फैक्ट्री बंद करके हम ये आत्म विनाश की फैक्ट्री बना रहे हैं । और जो शेर इस विनाश को रोक सकता था , इन सभी निरीह जानवरो का सबसे बड़ा संरक्षक था, उसे हमने पिंजरे में बंद कर दिया हैं ताकि वो हमारे बच्चो का मनोरंजन कर सके । ये ठीक वैसा ही हैं जैसे आपने किसी देश के राष्ट्रपति या प्रधानमन्त्री को बोल दिया की आप फिल्मो में काम कीजिये और देश की व्यवस्था चलाने के स्थान पर हमारा मनोरंजन कीजिये । प्रकृति के साथ इतना क्रूर मजाक तो विलक्षण बुद्धि का धनी मानव ही कर सकता हैं ।

फिल्म बाहुबली में एक दृश्य हैं , जंगली सूअर फसलों को नष्ट कर रहे हैं और किसानो की याचना पर राजा उन सुअरो का शिकार कर उनका वध कर देते हैं । मनुष्य भी प्रकृति की फसल नष्ट कर रहा हैं और ईश्वर तो बाहुबली हैं ही । क्या पता किसी दिन प्रकृति की याचना से पसीजकर ईश्वर बाहुबली बनकर मनुष्य पर हमला बोल दे । समय अपनी गति से चल रहा हैं | चमगादड़ खाने की कीमत आज हम चूका रहे हैं पर शेर को पिंजरे में बंद करने की कीमत चुकाना अभी बाकी हैं |

— अंकित सोलंकी, उज्जैन (मप्र)

हाँ थोड़ा दर्द हुआ पर चलता हैं !


वो कोई प्रेम गीत नहीं था । असल में तो वो गीत ही नहीं था, वो तो दिल टूटने का किस्सा था, विषाद का अहसास था, गहरे अवसाद को उत्सव की तरह परिभाषित करने की कोशिश थी । कोई नौजवान प्रेम में असफल होने पर आत्महत्या की कोशिश करता हैं, और इस असफल कोशिश के बाद अस्पताल में भर्ती हैं । अब इस नौजवान को कोई क्या समझाए, वैसे भी बीस बाईस बरस की उम्र में कोई कहा किसी की सुनता हैं, माँ-बाप अचानक से पिछली सदी के लगने लगते हैं, दुनिया दिल के सारे अरमान पूरे करने की जगह लगने लगती हैं, मन सपनो के पीछे भागने लगता हैं । और जब ये अरमान, ये सपने टूटते हैं, तो कुछ नहीं बचता । अपरिपक्य मन आत्महत्या जैसे विकल्प तलाशने लगता हैं ।

पर मुन्नाभाई को इस नौजवान को जीवन का महत्त्व समझाना था। आती-जाती सांसो का वजन किसी के भी प्यार से कही ज्यादा होता हैं, और प्यार के लिए इन साँसों को रोक दिया जाये, इससे बड़ा कोई अपराध नहीं । जब तक सांसे चल रही हैं, तब तक जीवन को पूरे दिल से जीना हर जीव का अधिकार ही नहीं वरन दायित्व भी हैं । तो गीत आरम्भ होता हैं जब नौजवान मुन्नाभाई को कहता हैं, आपको क्या पता प्यार क्या होता हैं ? ये मानवीय हृदय की दुर्बलता हैं कि उसे हमेशा अपना दुःख, अपना दर्द ही सबसे ज्यादा प्रतीत होता हैं, दूसरे का दुःख हमेशा अपने से कम ।

अब प्यार का पता बताने के लिए एक कहानी गढ़ी जाती हैं, हेमा के साथ प्यार की कहानी । ये कहानी नकली हैं, पर नगर-महानगर, गली-मोहल्लो में रहने वाले लाखो नौजवानो पर फिट बैठती हैं । कहानी में पहले दीदार का जिक्र हैं और सर का चक्कर खाना, ट्रक के साथ टक्कर खाना जैसे अतिशयोक्ति दी गई हैं । मुन्नाभाई हेमा के साथ प्यार में अपना धंधापानी भूल जाते हैं और कल्लन जैसे दोस्तों को पीट भी देते हैं । पैसा-दोस्ती समय सब प्यार पर कुर्बान कर देते हैं, और तभी एक मार्मिक आवाज़ सुनाई देती हैं – ‘फिर हेमा का क्या हुआ’ । यही से नकली कहानी का असली एन्ड शुरू होता हैं । हेमा की शादी कही और हो जाती हैं और भाई का दिल टूट जाता हैं । कहानी अपनी नियति को प्राप्त होती हैं और फिर से एक मार्मिक पंक्ति आती हैं, गीत का संपूर्ण सार – “सपना टुटा तो दिल कभी जलता हैं, हा थोड़ा दर्द हुआ पर चलता हैं”। चलता हैं, चलाना पड़ेगा और चलाना ही हैं, यही जीवन हैं । किसी भी दर्द के बोझ में आकर आप साँसों को नहीं रोक सकते। उस रात दौ बजे तक पीने और गम हल्का करने के बाद मुन्नाभाई के जीवन में भी अगला दिन आता हैं, और अगले दिन………अगले दिन वही जीवन शुरू आता हैं, वही दोस्तों के बीच उठाना-बैठना शुरू हो जाता हैं, वही गंदे गिलास की चाय-पान-बीड़ी और वही धंधा पानी । यही जीवन हैं, इसमें हमेशा अगला ही होता हैं, पिछला कुछ नहीं |

ये गीत २००३ में आई फिल्म मुन्नाभाई ऍम बी बी अस में था, और गीत अपनी फिल्म के कथानक से गुथा लगता हैं, अकेले जैसे इस गीत का कोई अस्तित्व ही नहीं । गीत को अपनी कड़क और रौबदार आवाज़ में गया था विनोद राठोड ने और इसके मजेदार लिरिक्स लिखे थे अब्बास टायरवाला ने, संगीतकार थे अन्नू मलिक । गीत के बीच में औ-औ-औ की तुकबंदी बहुत ही मधुर हैं और पूरे गीत में बदलते संजय दत्त के भाव इसे संपूर्ण बनाते हैं । टपोरी स्टाइल के इस गीत को सुंनने से ज्यादा सुखद अनुभव देखने में हैं । अशरद वारसी और उनकी टपोरी गैंग के कमैंट्स और बेतरतीब हरकतों को देखे बिना इस गीत का अनुभव अधूरा हैं ।

और अंत में – वैसे खुदखुशी करने का विचार लेन वालो पर इस गीत से कही ज्यादा असर इस गीत के शुरुआत में होने वाले संवादों में हैं  – “साला छह महीने के प्यार में मरने चला था, तेरी माँ तेरेको बचपन से प्यार करती हैं, उसके लिए जी नहीं सकता तू । और आंटी तुम भी ना, एक आंसू टपका नहीं कि पल्लू से पौछने चली, थोड़ा टफ होने देना का ना ।” सच हैं, माँ-बाप के प्यार से बढ़कर कुछ नहीं और थोड़ा टफ होना एक तरह से जीवन की मूलभूत आवश्यकता ही हैं ।

शुक्रवार


सोमवार तो नीरस हैं, निर्जीव जैसे पतझड़ में आबरू खोया पलाश का पेड़ ।
मंगलवार भी बंजर जमीन जैसा उबड़-खाबड़ और पथरीला ।
बुधवार जैसे बाजरे की रोटी और प्याज, स्वास्थ्य के लिए गुणवान पर बेस्वाद और बैरंग ।
गुरुवार जैसे दोपहर का ढलना और शाम की दस्तक, चार बजे की चाय ।
और शुक्रवार जैसे बाइस साल का नौजवान, आकर्षक और ऊर्जा से भरपूर ।

शुक्रवार होने की कभी इतनी खुशी कभी नही हुई जितनी नौकरी शुरू करने के बाद हुई । सप्ताह के पूरे पाँच दिन पाँच पांडवो की तरह महाभारत का युद्ध लड़ने के बाद श्री कृष्ण की बनाई माया-मोह से भरी इस दुनिया मे दो दिन की छुट्टी मिलती हैं । पर असली महिमा इन दो दिन की नही हैं, बल्कि उस शुक्रवार की हैं जो इन दो दिनों को लेकर आता हैं, जैसे मानसून के आगमन का रोमांच भरती पहली बारीश, रेलगाड़ी के स्टेशन पहुचने से पहले प्लेटफॉर्म की चहलकदमी ।

शुक्रवार होना भी खुशकिस्मती हैं, सुबह ये अहसास कि शुक्रवार आ गया, शाम को ये रोमांच की अगले दिन छुट्टी हैं, और इन दोनों के बीच दिन भर ये शुक्र कि आज शुक्रवार हैं । शुक्रवार की नीयत भी साफ हैं, कोई अनिर्णय की स्थिति नही हैं, जो कार्य संध्या तक पूर्ण हो सकते हैं उन्हें पूर्ण ऊर्जा से शीघ्रातिशीघ्र पूर्ण किया जाता हैं और जो दिन भर में पूरे नही किये जा सकते उन्हें अगले सप्ताह पर छोड़ दिया जाता हैं, कोई कंफ्यूसन नही । किसी भी कार्य को पूर्ण करने की जो ऊर्जा शुक्रवार की दोपहर में होती हैं,और किसी दिन में नही । शुक्रवार की शाम तो जैसे आम का बाग हैं, महक और स्वाद से भरपूर । दोस्तो को सुबह से ही शाम के आयोजन की सूचना दे दी जाती हैं और मस्ती की पूरी लिस्ट बना ली जाती हैं । रात को घर पहुँचो तो घरवालो को भी ये इत्मिनान रहता हैं कि अब दो दिन ये सौतन नौकरी के पास नही जायेगे । सभी का शुक्रवार को प्रोग्राम फिक्स होता हैं, कोई शाम को जल्दी से ट्रेन या बस पकड़ता हैं, कोई फ़िल्म की टिकिट बुक करता हैं तो कोई घरवालो को कही घुमाने ले जाता हैं । जुम्मे चुम्मे के गीत से मशहूर इस वार के सामने तो इतवार भी कुछ नही जो संध्या में ये सोग दे जाता हैं कि अब अगला दिन सोमवार हैं ।

कहते हैं शुक्रवार को खटाई नही खाते, अच्छा नही माना जाता । खटाई खाये या ना खाये पर शुक्रवार को किसी को काम नही बताते क्योंकि ये ब्रह्महत्या से भी बड़ा पाप माना गया हैं । शुक्रवार को वही कार्य किये जाते हैं जिन्हें इसी सप्ताह समाप्त करना होता हैं अन्यथा अगला सप्ताह तो हैं ही । किसी जमाने मे फिल्मे गुरूवार को रिलीस होती थी पर जब से फाइव डे वर्किंग कल्चर आया हैं, फ़िल्म वालो को भी शुक्रवार की महत्ता पता चली और फिल्मे शुक्रवार को रिलीस करने की परंपरा शुरू हुई । शुक्रवार की सुबह वैसे स्टूडेंट्स के लिए भी बहुत खास होती हैं, शनिवार-रविवार की भीड़ और महंगे टिकिट से बचने के लिए वो शुक्रवार सुबह ही मूवी का फर्स्ट डे फर्स्ट शो देख आते हैं। इसीलिए शुक्रवार को कॉलेज में अटेंडेंस भी कम ही होती हैं।

वैसे शुक्रवार होने की भी कुछ मर्यादा हैं, जैसे वो कभी रविवार की तरह अकर्मण्य और आलसी नही हो सकता, वो कभी सोमवार की तरह नीरस भी नही बन सकता । शुक्रवार को तो कर्म भी पूर्ण तन्मयता से होता हैं, और आनंद-उल्लास भी दिल खोलकर मनाया जाता हैं, मन को मारकर तो कोई काम किया ही नही जाता । कर्म और आनंद के फूलों को एक माला में पिरोकर जीवन को खूबसूरत बनाता ये दिन वाकई में गज़ब का होता हैं ।

**लेखक – अंकित सोलंकी, उज्जैन (मप्र)**

मकोडिया आम


आगर रोड जब उज्जैन के चामुंडा माता चौराहे से होते हुए आगे बढ़ती हैं तो उज्जैन शहर की सीमा से बाहर होने के पहले एक क्षेत्र से होकर गुजरती हैं, जिसे मकोडिया-आम कहते हैं । मुझे बचपन मे लगता था ये नाम किसी मुगल शासक ने रखा हैं, जैसे दीवाने-खास, दीवाने-आम होते हैं वैसे ही मकोडिया-आम भी होता होगा । पर वहाँ रह रहे पुराने लोगो ने बताया कि ये नाम वहाँ लगे आम के पेड़ों की वजह से था । कभी वहाँ आम के पेड़ हुआ करते थे और उन आम के पेड़ों पर बहुत से मकोड़े रहते थे । अब आम तो शहर में बहुत सारे थे पर मकोड़े वाले आम हर जगह नही थे, तो इस क्षेत्र का नाम ही मकोडिया-आम हो गया। जिन लोगो को मकोड़े नही पता, उन्हें बता दू कि मकोड़े चीटियों के बड़े भैया होते हैं , जो एक बार शरीर से चिपक जाए तो बड़े से बड़े पहलवान को भी नानी याद दिला देते हैं । क्या पता कितने लोगों को वहां आम खाने की चाहत में मकोड़े काटे होंगे । कभी वहां रेलवे लाइन भी था, क्या पता जब रेल उज्जैन के आउटर पर किसी कारण से खड़ी होती होगी तो लोग उतरकर वहां खट्टे-मीठे आम खा लेते होंगे ।

कालांतर में वहाँ से रेलवे लाइन समाप्त कर दी गई और धीरे धीरे आम के पेड़ भी गुम हो गए और अब वहाँ कुछ हैं तो आगर रोड और उसके किनारे पर बसी कालोनी इंदिरा नगर, मोहन नगर, संजय नगर और गायत्री नगर । मकोडिया-आम नाम भी अब आम नही रहा और धीरे धीरे समाप्त हो रहा हैं। प्रकृति भी समाप्त हुई और अब उसके संकेतक भी भुलाये जा रहे हैं । कुछ ऐसे ही हाल सभी शहरों में पिपलिनाका, इमली चौराहा, नीम चौक और जामुन वाली गली का भी हो रहा हैं । जब पेड़ ही नही रहा तो उसका नाम भी क्यो रहे । और जब पेड़ की ही नही चली तो मकोड़े की तो बिसात ही क्या । जिहवा के स्वाद के लिए मुर्गे की हड्डियों को भी चूस-चूसकर खाने वाले मानव के मकोड़ा किस काम का, ना हड्डी हैं ना मांस, मरने दो साले को । कितने सालो से मैने कोई मकोड़ा नही देखा, गौरैया चिड़िया नही देखी, तितली कभी कभी दिख जाती हैं, कबूतर रिफ्यूजी केम्प की तरह किसी पुरानी बिल्डिंग या रेलवे स्टेशन पर रह रहे हैं । गायो के शहरों में घुसने और सडको पर घूमने पर आपत्ति होती हैं, यहां पूरा के पूरा शहर जंगलो में घुस गया, किसी ने उफ्फ तक नही की । हँसी आती हैं, जब शहर में कही वन क्षेत्र लिखा हुआ दिखाई देता हैं । अब मकोडिया-आम जैसे भी कोई नाम नही होंगे । नाम रखे जाएंगे तो टाउनशिप, पेरेडाइस, आवेन्यू, कॉरिडोर या शॉपिंग मॉल के नाम पर । हर किसी को घर देने का सपना जो सरकार ने पाल रखा हैं । और सरकार मकोड़ो की क्यों सुने, उन्होंने थोड़ी ना सरकार को वोट दिया हैं । अगर मकोड़े भी वोट देते तो वो अपने लिए एक आम का पेड़ मांग लेते, पर संविधान ने उन्हें ये हक़ दिया ही नही । वैसे भी जंगल की सरकार तो सिर्फ बच्चों की कविताओं में ही होती हैं और प्रकृति के नियम जैसे शब्द सिर्फ डिस्कवरी चेनल पर सुनाई देते हैं । मानवीय विकास के रथ के पहिये प्रकृति के पेट को कुचलते हुए तेज़ी से आगे बढ़ रहे हैं और मकोडिया-आम प्रकृति की चित्कार हैं ।